फेस वैल्यू क्या होती है? Face Value Kya Hota Hai

शेयर बाज़ार में फेस वैल्यू क्या होती है? (Face Value Kya Hota Hai) और इस फेस वैल्यू का क्या उपयोग है? इस पोस्ट के माध्यम से इन दोनों अवधारणाओं को सरल तरीके से समझाया गया है। अगर आप भी फेस वैल्यू के बारे में जानना चाहते हैं तो इस पोस्ट को पढ़ सकते हैं।

फेस वैल्यू क्या होती है? Face Value Kya Hota Hai

जब कंपनी को ग्रो करने या अपना कर्ज चुकाने के लिए पैसे की आवश्यकता होती है, तो कंपनी एनएसई और बीएसई पर सार्वजनिक हो जाती है, यानी कंपनी के शेयरों को खरीद के लिए बाजार में लाया जाता है। वहीं, एनएसई और एनएसई में शेयर बांटने के बाद कंपनी तय करती है कि आपकी कंपनी के शेयरों की कीमत क्या होनी चाहिए और कंपनी शेयरों के लिए जो कीमत रखती है, उसे फेस वैल्यू (face value) कहा जाता है।

उदाहरण के लिए, राम लिमिटेड नाम की एक कंपनी बीएसई पर सूचीबद्ध है, तो राम लिमिटेड कंपनी कुल 10 हजार शेयर जारी करती है, जिसमें से 5 हजार शेयर वह कंपनी के पास ही रखती है और 5 हजार शेयर बीएसई को बिक्री के लिए देती है। फिर बीएसई कंपनी से शेयर की कीमत घोषित करवाता है। उदाहरण के लिए, यदि राम लिमिटेड एक शेयर की कीमत 10 रुपये घोषित करता है, तो राम लिमिटेड कंपनी का फेस वैल्यू 10 रुपये हो जाता है।
भले ही उसके बाद उस कंपनी का शेयर मूल्य बढ़ जाए, लेकिन जो शेयर मूल्य शुरू में घोषित किया गया था वह वही फेस वैल्यू रहता है।

जैसे-जैसे कंपनी बढ़ती है, कंपनी के शेयर की कीमत बढ़ती हैं लेकिन कंपनी का फेस वैल्यू नहीं बदलती है। कंपनी की फेस वैल्यू तभी बदलतीं है जब शेयरों की कीमत उनके फेस वैल्यू से कम हो।

कंपनी शेयर धारक को जो Dividend देती है वह फेस वैल्यू के आधार पर दिया जाता है। फेस वैल्यू जितना कम होगा, लाभांश उतना ही अधिक होगा। उदाहरण के लिए, किसी कंपनी का फेस वैल्यू 10 रुपये है और यदि वह कंपनी हमें 150% लाभांश देती है, तो हमें प्राप्त लाभांश को फेस वैल्यू से विभाजित करना होगा जैसे-
150÷10 = 15
इसका मतलब है कि कंपनी हमें प्रति शेयर 15 रुपये का लाभांश दे रही है, यह Face Value का लाभ है।

Conclusion

नई कंपनी एनएसई या बीईएस के माध्यम से बाजार में पहली बार शेयर जारी करती है और साथ ही उन शेयरों की कीमत तय करवाती है, वही कीमत Face Value कहलाते है।

Leave a Comment